किसी भी तरह का बिज़नेस शुरू करने से पहले सबसे जरूरी बात कौंन-सी होती है? आप कहेंगे कि बज़ट किसी भी बिज़नेस की शुरूआत में सबसे पहली जरूरत है. दरअसल बज़ट किसी भी बिज़नेस का महत्वपूर्ण हिस्सा है लेकिन सबसे पहली बात बिज़नेस मॉडल की होती है क्योंकि बिज़नेस मॉडल के अभाव में कोई भी कारोबार लंबी पारी नहीं खेल सकता है. तो आज हम आपको बताएंगे कि बिज़नेस मॉडल क्या है और यह कितने तरह के होते हैं?

दरअसल बिज़नेस मॉडल वह होता है, जिसके जरिए आप अपने प्रोडक्ट या सर्विस के बारे में बताते हैं. आपका प्रोडक्ट या फिर सर्विस क्या है और किन लोगों के लिए है? आपके द्वारा दी गई सर्विस या प्रोडक्ट कस्टमर के लिए किस तरह की वैल्यू (Value) बनाता है? बिज़नेस मॉडल में इन सभी बातों का जिक्र होता है. बिज़नेस मॉडल कई तरह के होते हैं.

बिज़नेस टू बिज़नेस मॉडल: इस तरह के बिज़नेस मॉडल में कंपनी अपने प्रोडक्ट या फिर सर्विस को किसी दूसरी कंपनी को बेचती है. वह दूसरी कंपनी प्राप्त किए गए प्रोडक्ट या सर्विस को फाइनल कस्टमर तक पहुंचाती है. इस तरीके को बिज़नेस टू बिज़नेस मॉडल (Business to Business Model)  या फिर बीटूबी मॉडल (B2B Business Model)  कहा जाता है.

बिज़नेस टू कस्टमर मॉडल: इस तरह के बिज़नेस मॉडल में कंपनी सीधे तौर पर अपने प्रोडक्ट या सर्विस को कस्टमर तक पहुंचाती है. इसका एक उदाहरण ई-कॉमर्स कंपनी अमेज़ान (Amazon)  है. इस बिज़नेस मॉडल में कस्टमर डॉयरेक्ट वेबसाइट पर जाकर सर्विस या प्रोडक्ट को प्राप्त कर लेता है. इस मॉडल में किसी बिचौलिये (Middleman) की जरूरत नहीं होती है. इसलिए ही इस मॉडल को बिज़नेस टू कस्टमर मॉडल (Business to Costumer Model) या फिर बीटूसी मॉडल (B2C Business Model)  कहा जाता है.

कस्टमर टू बिज़नेस मॉडल: बिज़नेस का यह मॉडल बीटूबी (B2B) और बीटूसी (B2C) से बिल्कुल अलग होता है. इस तरह के बिज़नेस मॉडल में कस्टमर अपनी सर्विस या फिर प्रोडक्ट को कंपनी को बेचता है. इस मॉडल में कस्टमर को अपने प्रोडक्ट या सर्विस का प्राइस (Price) खुद तय करने का मौका मिल जाता है. इस मॉडल को कस्टमर टू बिज़नेस मॉडल (Costumer to Business Model) या फिर सीटूबी बिज़नेस मॉडल (C2B Business Model) कहा जाता है.

कस्टमर टू कस्टमर बिज़नेस मॉडल या कंज्यूमर टू कंज्यूमर बिज़नेस मॉडल: इस तरह के बिज़नेस मॉडल (Business Model)  में कस्टमर सीधे तौर पर क्लाइंट (Client)  से किसी प्रोडक्ट या सर्विस को प्राप्त करता है. उदाहरण के तौर पर अगर कोई कस्टमर साइट पर जाकर किसी मकान को रेंट पर लेने के लिए खोज़ता है तो इस तरह का बिज़नेस कंज्यूमर टू कंज्यूमर बिज़नेस मॉडल (Consumer to consumer Business Model)  या सीटूसी बिज़नेस मॉडल में (C2C Business Model) आता है.

 

बिज़नेस से जुड़ी और भी ज्यादा जानकारी पाने और हमसे जुड़ने के लिए दिए गए लिंक पर क्लिक करें https://www.badabusiness.com/life-time-membership?ref_code=ArticlesLeads पर Visit करें।